कानपुर देहात में बड़ा रेल हादसा-इंदौर-पटना ट्रेन हादसे में 55 लोगों की मौत, मुआवजे का एलान
Updated Date:20 Nov 2016 | Publish Date: 20 Nov 2016
*KNCUPLIVE*
_24×7 web news channel_
*कानपुर देहात में बड़ा रेल हादसा-इंदौर-पटना ट्रेन हादसे में 55 लोगों की मौत, मुआवजे का एलान।*

*इंदौर-राजेन्द्र नगर एक्सप्रेस के करीब 14 डिब्बे पटरी से उतर जाने के चलते काफी लोगों के हताहत होने की खबर है। इस हादसे में अब तक 55 लोगों के मारे जाने की पुष्टि हो चुकी है।*

*अभय त्रिपाठी✍सम्पादक*

*कानपुर देहात-इंदौर से पटना जा रही इंदौर-राजेन्द्र नगर एक्सप्रेस (19321) रविवार तड़के तीन बजकर दस मिनट पर कानपुर- झांसी रेल खंड के पुखरायां रेलवे स्टेशन (कानपुर देहात) के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गई। हादसे में ट्रेन की 14 बोगी के पटरी से उतर जाने के चलते कम से कम 55 लोगों की मौत हो गई है, जबकि 150 से अधिक लोग घायल हो गए हैं। इस हादसे में GS,GS,A1,B1, B2, B3, BE,S1,S2,S3, S4, S5,S6 कोच को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है।*
रेल मंत्रालय ने इस हादसे में मारे गए यात्रियों के परिजनों को साढ़े तीन लाख का मुआवजा देने का एलान किया है। गंभीर रूप से घायलों के लिए यह राशि पचास हजार रुपये रखी गई है। वहीं मामूली रूप से घायल हुए यात्रियों को 25 हजार रुपये दिए जाएंगे। वहीं रेल राज्य मंत्री भी मौके पर पहुंच रहे हैं। सेना को भी राहतकार्य में लगाया गया है।

*कई ट्रेन रद, कई का रूट बदला*

हादसे की वजह यह रेल मार्ग बाधित हो गया है। इसकी वजह झांसी-लखनऊ इंटरसिटी एक्सप्रेस, झांसी कानपुर पैसेंजर ट्रेन को रद कर दिया गया है। इसके अलावा ट्रेन संख्या 12107, 11124, 19167, 11015, 11016, 12104, 12511 का रूट बदल दिया गया है।

*चश्मदीदों ने की थी शिकयत*

चश्मदीदों के मुताबिक उन्होंने ट्रेन में कुछ अजीब सी आवाज सुनने के बाद इसकी जानकारी टीटी को दी थी, लेकिन उनकी शिकायत को नजरअंदाज किया गया। 

*सीएम अखिलेश यादव ने स्वस्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव को दिशा निर्देश देतेे हुए हादसे में घायल सभी यात्रियों के इलाज को सुनिश्चित करने को कहा है।*

*अब तक क्या हुआ*

- एनडीआरएफ की टीम लखनऊ से रवाना हो चुकी है।

- कानपुर सिटी से एनडीआरएफ की टीम मौके पर पहुंची

- रेल मंत्री ने हादसे की दिए जांच के आदेश दे दिए हैं। रेल राज्य मंत्री मौके पर पहुंच रहे हैं।

- एसी कोच की पांच बोगियां, स्लीपर कोच की छह, जनरल कोच की दो और एक लगेज रेक पटरी से उतरे।

- क्षतिग्रस्त बोगियों से गैस कटर के जरिए काटकर शवाें को निकाला जा रहा है।

- घायलों को अस्पताल पहुंचाया गया है।

- राहतकार्य में लगे सेना के जवान ।

- हादसे में शिकार यात्रियों के लिए मुआवजे का एलान।

जानकारी केे मुताबिक यह कोच काफी पुराने होने की वजह से शवाें को निकालने में काफी परेशानी हो रही है। राहतकार्य में एनडीआरएफ की टीम भी लगी हुई है। गैस कटर के जरिए कोच को काटकर शवों को निकालने की कोशिश की जा रही है हादसे के दौरान यात्री एक दूसरे के ऊपर आ गिर, और कोच आपस में टकराकर बुरी तरह से पिचक गए। यात्रियों की पूछताछ के लिए हेल्पलाइन नंबर भी जारी किए गए हैं। यात्री 0513-270239 नंबर पर फोन कर इस हादसे से जुड़ी जानकारी ले सकते हैं।

*सीएम अखिलेश यादव ने डीजीपी को दिए निर्देश*
मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने यूपी डीजीपी को खुद राहत बचाव की निगरानी के निर्देश दिए हैं।दुर्घटना के वक्त अंधेरा होने के चलते बचाव कार्य फौरन बाद ठीक से शुरू नहीं हो पाई।फिलहाल बचाव और राहत का कार्य चल रहा है। लेकिन, हादसे की वजह का अब तक कुछ पता नहीं चल पाया है।
इंडियन रेलवे के प्रवक्ता अनिल सक्सेना ने कहा कि इंदौर-पटना एक्सप्रेस कानपुर के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गई। राहत और बचाव कार्य जोरों पर चल रहा है। दुर्घटनास्थल पर रेलवे के सीनियर अधिकारी और मेडिकल टीम पहुंच चुकी है और घटना को लेकर लगातार वहां के जिला अधिकारी से संपर्क किया जा रहा है।
इस हादसे में ट्रेन की कई पटरियां भी उखड़ गई है। इंदौर-राजेन्द्र नगर एक्सप्रेस के दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद कानपुर-झांसी पैसेंजर ट्रेन समेत इस रूट पर चल रही कई गाड़ियों को रद्द कर दिया गया है जबकि कुछ ट्रेनों का रुट बदल दिया गया है।

*पहले भी हुए ट्रेन के पटरी से उतरने के कई हादसे*

देश में आए दिन ट्रेन के पटरी से उतरने की घटनाएं सामने आ रही है। हालांकि, इसको लेकर रेलवे की पटरी और पुरानी बॉगियों पर विशेषज्ञ सवाल उठाते रहे हैं।
19 नवंबर 2016- शनिवार की रात करीब 2 बजे राजस्थान के गंगानगर में शनिवार को बठिंडा-जोधपुर पैसेंजर ट्रेन के पटरी से उतर जाने के चलते 12 लोग घायल हो गए।

4 नवंबर 2016- मध्यप्रदेश के सिंगरौली-जबलपुर रेलवे लाईन पर मंझौली-देवग्राम स्टेशन के बीच एक मालगाड़ी पटरी से उतर गई। इसके चलते काफी देर तक यह रूट बाधित रहा। हालांकि, इस घटना में किसी तरह का कोई नुकसान नहीं हुआ।

20 अक्टूबर 2016- उड़ीसा के मालीगुड़ा और जाटरी स्टेशन के बीच एक मालगाड़ी की आठ बॉगी पटरी से उतर गई। इसके बाद कोरापुट की रेल सेवाएं काफी प्रभावित हुई। लेकिन, इस हादसे में भी किसी तरह का कोई बड़ा नुकसान नहीं हुआ है।

अक्टूबर में ही फिलौर और लुधियाना स्टेशन के बीच झेलम एक्सप्रेस पैसेंजर ट्रेन की 10 बॉगी पटरी से उतर जाने के चलते तीन लोग घायल हो गए थे।

27 अगस्त 2016- तिरूवनंतपुरम-मैंगलोर एक्सप्रेस की 12 बॉगी कोच्चि से करीब 45 किलोमीटर दूर कारुकुट्टी स्टेशन के नजदीक पटरी से गई। इस हादसे में भी किसी तरह का कोई नुकसान नहीं हुआ।
*www.kncuplive.in*
*www.kncuplive.com*