Kanpur news-अपराधियों पर रहेगी पैनी निगाह, दरवाजे पर दस्तक देगी कानपुर पुलिस
Updated Date:13 Jun 2017 | Publish Date: 13 Jun 2017
*BIG NEWS@KNCUPLIVE*
_Information is life_

*अपराधियों पर रहेगी पैनी निगाह, दरवाजे पर दस्तक देगी कानपुर पुलिस*

*👉ऑपरेशन दस्तक के नोडल अधिकारी बने एसपी पश्चिमी गौरव ग्रोवर।*
-----------------------------------------
*ABHAY TRIPATHI✍ EDITOR*

*_कानपुर-अपराध के बढ़ते ग्राफ पर अंकुश लगाने के लिए कानपुर पुलिस अपराधियों के दरवाजे पर दस्तक देगी। डीआईजी के निर्देश पर यह अभियान शुरू किया गया है।_*

*डीआईजी सोनिया सिंह* ने बताया कि *ऑपरेशन दस्तक* में लूट,चोरी और प्रापर्टी संबंधित अपराधों में शामिल सक्रिय अपराधी विशेष रुप से निशाने पर रहेंगे। उन्होंने बताया कि हर थानाक्षेत्र में बीट इंचार्ज से लेकर बीट सिपाही तक पर यह जिम्मेदारी होगी कि वह उनके इलाके में रहने वाले अपराधियों का पूरा ब्यौरा रखेंगे। इसके साथ ही अपराधियों के दरवाजे पर दस्तक भी दें। अगर अपराधी घर पर मौजूद नहीं है तो उसके परिवार वालों से पूछताछ कर ब्यौरा जुटाएं। *डीआईजी* ने बताया कि बीट इंचार्ज व सिपाही अपराधी के जेल से बाहर आने, वर्तमान में उसकी गतिविधयों व उसके द्वारा किए जा रहे काम के बारे भी जानकारी रखेंगे। उन्होंने बताया कि पुलिसकर्मियों को थाने पर अपराधियों के बारे में विस्तृत रिपोर्ट तैयार कर जमा करनी होगी जिसकी गुणवत्ता की जाँच सीओ करेंगे।

*28 बिन्दुओ पर तैयार होगा डोजियर*

*ऑपरेशन के नोडल अधिकारी एसपी पश्चिमी गौरव ग्रोवर* ने बताया कि पहले से चल रही डोजियर व्यवस्था को अपडेट भी किया जाएगा। सभी थाना क्षेत्रों के थानेदारों को निर्देशित किया गया है कि सन 2015,2016,2017 के अपराधियों को तस्दीक़ किया जाये आरक्षियों द्वारा। वही जनपद के बाहर के अपराधियों को चिन्हित कर एक-एक अपराधी पर एक-एक आरक्षी आवंटित किया गया है। *पहली बार 28 बिंदुओं का डोजियर तैयार कराया जा रहा है* जिसमें अपराधी का फोटो, नाम, पता, पिता समेत परिवार के सदस्यों का नाम,उसके अधिवक्ता का नाम,किन-किन जिलों में उसके खिलाफ मामले दर्ज है और वर्तमान कार्य, मोबाइल नंबर  आदि दर्ज होंगे। ऑपरेशन के दौरान अगर अपराधी संदिग्ध गतिविधियों में लिप्त है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

*डीसीआरबी रखेगी डिजिटल रिकार्ड*

ऑपरेशन दस्तक के दौरान तैयार की गई रिपोर्ट थाना प्रभारी के साथ ही डीसीआरबी को भी उपलब्ध कराई जाएगी। वहीं डीसीआरबी अपराधियों का डिजिटल रिकार्ड तैयार करेगी। इसके साथ ही अपराध की दृष्टि से संवेदनशील स्थानों को चिंहित कर ड्यूटी लगाई जाएगी।

*जेल पुलिस चौकी होगी हाईटेक*

*डीआईजी* ने बताया कि जिला जेल पुलिस चौकी को हाईटेक बनाया जाएगा उसे सीसीटीवी कैमरों से लैस कर जेल के अंदर और बाहर जाने वाले अपराधियों पर निगाह रखी जायेगी। वही जेल से छूटे अपराधियों का ब्यौरा भी रोजाना रखा जाएगा।
*www.kncuplive.com*