होम > कानपुर > आपकी ख़बर

गोरखपुर हादसाः बीआरडी कॉलेज के पूर्व प्रिंसिपल राजीव मिश्रा और उनकी पत्नी पूर्णिमा कानपुर से गिरफ्तार
Updated Date:29 Aug 2017 | Publish Date: 29 Aug 2017

गोरखपुर हादसाः बीआरडी कॉलेज के पूर्व प्रिंसिपल राजीव मिश्रा और उनकी पत्नी पूर्णिमा कानपुर से गिरफ्तार


गोरखपुर के बाबा राघव दास (बीआरडी) मेडिकल कॉलेज में अगस्त के दूसरे हफ्ते में ऑक्सिजन की कमी से मारे गए 30 बच्चों के मामले में मेडिकल कॉलेज के पूर्व प्रिंसिपल को यूपी एसटीएफ ने कानपुर के सकेत नगर से गिरफतार किया है। प्रिंसिपल राजीव मिश्रा के साथ-साथ उनकी पत्नी पूर्णिमा शुक्ला को भी एसटीएफ ने गिरफ्तार किया गया है।

आपको बता दें कि गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में अगस्त के दूसरे हफ्ते में छह दिनों में 63 लोगों की मौत हो गई थी। जिनमें 10 और 11 अगस्त को ही 30 बच्चों की मौत हो गई थी। जान गंवाने वालों में नवजात बच्चे भी शामिल थे। 

बाल चिकित्सा केंद्र में बच्चों की मौतों के लिए इंफेक्शन और ऑक्सीजन की सप्लाई में दिक्कत को जिम्मेदार ठहराया गया था। लेकिन अस्पताल और जिला प्रशासन ने ऑक्सीजन की कमी को मौत का कारण मानने से इनकार किया था। 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेश पर प्रदेश सरकार ने गोरखपुर में बच्चों की मौत के मामले में लखनऊ के हजरतगंज थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। इस मामले में गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कालेज में आक्सीजन सप्लाई करने वाली फर्म पुष्पा सेल्स के संचालकों , प्रधानाचार्य डा. राजीव मिश्र व उनकी पत्नी समेत सात से ज्यादा कर्मचारियों-डाक्टरों को नामजद किया गया था। खबरों के मुताबिक उनके खिलाफ लापरवाही, भ्रष्टाचार और गैर-इरादतन हत्या का मामला दर्ज हुआ था।

मुख्यमंत्री ने गोरखपुर में हुई बच्चों की मौत के मामले में मुख्य सचिव राजीव कुमार को जांच का जिम्मा सौंपा था। उन्होंने मामले में जांच की और अपनी रिपोर्ट मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सौंप दी थी। इसके बाद ही चिकित्सा शिक्षा की अपर मुख्य सचिव अनीता भटनागर जैन को हटा दिया गया था। इस मामले में प्रथम दृष्टया गोरखपुर मेडिकल कालेज के प्रधानाचार्य पर प्रशासनिक लापरवाही, भ्रष्टाचार और अनदेखी के आरोप पाए गए थे। जांच में यह भी पाया गया था कि ऑक्सीजन सप्लाई करने वाली कंपनी के भुगतान में कमीशनखोरी भी समस्या थी। इसी वजह से पुष्पा सेल्स के 68 लाख रुपये के भुगतान में देरी हो रही थी।

मुख्य सचिव की रिपोर्ट में बीआरडी मेडिकल कालेज में बाल रोग विभाग के प्रमुख डा. कफील खां, खरीदारी विभाग के प्रमुख डा. सतीश कुमार, प्रधानाचार्य डा. राजीव मिश्र व उनकी पत्नी डा. पूर्णिमा शुक्ला को भी भ्रष्टाचार के आरोप में नामजद किया गया था। 

इसके अलावा मेडिकल कालेज के लेखाविभाग के कर्मचारियों को भी दोषी पाया गया। साथ ही चीफ फार्मासिस्ट गजानन जायसवाल को भी नामजद किया गया था। शासन के एक आला अधिकारी ने बताया कि इस मामले में दो दिन तक उच्चस्तर पर मंथन के बाद ही एफआईआर दर्ज करने की अनुमति मिल सकी। रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए मुख्य सचिव की जांच रिपोर्ट के तथ्यों पर विधिक राय भी ली गई। सभी प्रकार से संतुष्ट होने के बाद ही लखनऊ के हजरतगंज कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज की गई थी। 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रिपोर्ट में की गई संस्तुतियों को स्वीकार करते हुए कहा था कि दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए और उन्हें बख्शा न जाए।